Friday, January 27, 2023
Homeपर्यटन स्थलकम खर्च में दक्षिण भारत के इन जगहों पर घूम सकते हैं...

कम खर्च में दक्षिण भारत के इन जगहों पर घूम सकते हैं आप, यहां की सुंदरता मोह लेगी आपका मन

दक्षिण भारत:हमारा देश भारत एक बहुत बड़ा देश है और यहां घूमने फिरने के लिए विदेशों से भी लोग आते हैं क्योंकि भारत अपने प्राकृतिक खूबसूरती के लिए देश-विदेश में काफी ज्यादा मशहूर है.

भारत के हर भाग में घूमने के लिए खूबसूरत जगह मौजूद हैं और इसके लिए लोग देश-विदेश से यहां पर घूमने आते हैं.आप अगर भीड़-भाड़ से परेशान हो गए हैं और शांति से कहीं समय बिताना चाहते हैं तो आप तमिलनाडु जा सकते हैं.

Also Read:Travel: बहुत ही कम खर्च में अपने पार्टनर के साथ भारत के इन जगहों पर छुट्टियां बिता सकते हैं आप, मन मोह लेगी सुंदरता

Travel:बहुत ही कम खर्च में तमिलनाडु के इन जगहों पर आप कर सकते हैं यात्रा,दिखेगी गजब की प्राकृतिक खूबसूरती

Travel:बहुत ही कम खर्च में तमिलनाडु के इन जगहों पर आप कर सकते हैं यात्रा,दिखेगी गजब की प्राकृतिक खूबसूरती

एक तरफ जहां तमिलनाडु अपने प्रकृति खूबसूरती के लिए जाना जाता है वहीं दूसरी तरफ तमिलनाडु में कई ऐसी जगहें हैं जहां जाकर आप शांति महसूस कर सकते हैं और सबसे बड़ी बात तो यह है कि यह काफी ज्यादा खर्चीला नहीं होता है. तमिलनाडु के इन जगहों पर आप बहुत खर्च में जाकर घूम सकती हैं और अपना समय परिवार के साथ बिता सकते हैं.

ट्रांसजेंडर

कुन्नूर तमिलनाडु के एक प्रमुख हिल स्टेशन के रूप में जाना जाता है। यह नीलगिरी का दूसरा सबसे बड़ा हिल स्टेशन है। परिवार के साथ घूमने के लिए यह एक बेहतरीन टूरिस्ट डेस्टिनेशन साबित हो सकता है। सुंदर चाय बागान, पार्क, ट्रेकिंग स्थल कुन्नूर में घूमने के प्रमुख स्थान हैं। आपको कुन्नूर के हरे भरे जंगल बहुत पसंद आएंगे। लोग अक्सर छुट्टियों और पिकनिक के लिए कुन्नूर आते हैं। यह ऊटी के बाद नीलगिरि पहाड़ियों में दूसरा सबसे बड़ा हिल स्टेशन है। कुन्नूर घूमने का सबसे अच्छा समय मार्च से जून और सितंबर से अक्टूबर के बीच का है। चूंकि ऊटी और कुन्नूर के बीच की दूरी बहुत कम है, इसलिए अगर आप ऊटी जाने की योजना बना रहे हैं तो कुन्नूर जरूर जाएं। यहां के झरने भी काफी मशहूर हैं।

दक्षिण भारत

Travel:बहुत ही कम खर्च में तमिलनाडु के इन जगहों पर आप कर सकते हैं यात्रा,दिखेगी गजब की प्राकृतिक खूबसूरती

कोडईकनाल

मदुरै से 117 किमी दूर स्थित कोडाइकनाल भी दक्षिण भारत के सबसे अच्छे हिल स्टेशनों में से एक है। ऊटी को जहां हिल स्टेशनों की रानी कहा जाता है, वहीं कोडाइकनाल को हिल स्टेशनों की राजकुमारी कहा जाता है। समुद्र तल से 2 हजार 133 मीटर की ऊंचाई पर स्थित कोडाइकनाल पलानी पहाड़ियों के दक्षिणी छोर पर स्थित है। अगर आप कोडाइकनाल जाते हैं, तो यहां की प्राकृतिक सुंदरता के अलावा कोकर्स वॉक, सिल्वर कैस्केड और कोडाई झील की सैर करना न भूलें। यहां स्थित जंगल, हरे-भरे घास के मैदान और झील इसकी खूबसूरती को बयां करते हैं। अगर आप छुट्टी मनाने या अपने परिवार या दोस्तों के साथ हरी-भरी जगह पर समय बिताने की सोच रहे हैं, तो आपको तमिलनाडु के कोडाइकनाल की यात्रा करनी चाहिए।

Yercaud

यरकौड तमिलनाडु के शेवारॉय पहाड़ियों में स्थित है और पूर्वी घाट में स्थित एक हिल स्टेशन है। यह 1515 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है और इसकी प्राकृतिक सुंदरता और सुहावना मौसम कई पर्यटकों को आकर्षित करता है। हालांकि यरकौड को कभी-कभी गरीबों का उत्कममंडलम कहा जाता है क्योंकि यहां चीजें मशहूर हिल स्टेशन ऊटी की तुलना में सस्ती हैं। यरकौड स्थानीय और विदेशी पर्यटकों के बीच तेजी से लोकप्रिय हो रहा है। यरकौड मुख्य रूप से कॉफी, संतरा, कटहल, अमरूद, इलायची और काली मिर्च के पौधों के लिए जाना जाता है।

Also Read:Travel: कम खर्च में दक्षिण भारत के इन जगहों पर घूम सकते हैं आप, यहां की सुंदरता मोह लेगी आपका मन

ऊटी

ऊटी तमिलनाडु राज्य का एक शहर है। कर्नाटक और तमिलनाडु की सीमा पर स्थित यह शहर मुख्य रूप से एक हिल स्टेशन के रूप में जाना जाता है। इसे उधगमंडलम भी कहा जाता है। ऊटी नीलगिरी की खूबसूरत पहाड़ियों में बसा एक खूबसूरत शहर है। भारत के दक्षिण में स्थित इस हिल स्टेशन पर कई पर्यटक आते हैं। यह शहर तमिलनाडु के नीलगिरी जिले का एक हिस्सा है। पहाड़ियों की रानी कहे जाने वाले ऊटी में भी आप ट्रेकिंग का मजा ले सकते हैं। ऊटी में घूमने के लिए कई पहाड़ियां, बगीचे और खूबसूरत खूबसूरत जगहें हैं, जिन्हें आप देख सकते हैं और सुखद आनंद प्रदान कर सकते हैं। तो आप भी ऊटी घूमने का प्लान जरूर बनाएं।

Travel:बहुत ही कम खर्च में तमिलनाडु के इन जगहों पर आप कर सकते हैं यात्रा,दिखेगी गजब की प्राकृतिक खूबसूरती

कोटागिरी

कुन्नूर के बाद एक और प्रसिद्ध हिल स्टेशन है जो ऊटी के बहुत करीब स्थित है और इसका नाम कोटागिरी है। कोटागिरी नीलगिरी जिले में एक छोटा सा हिल स्टेशन है, जो ऊटी से सिर्फ 29 किमी और कुन्नूर से 20 किमी दूर है। यह स्थान कॉफी और चाय के बागानों के लिए भी प्रसिद्ध है। कोटागिरी के 30 हजार एकड़ में चाय की खेती होती है। चाय बागान के अलावा कैथरीन फॉल्स और एल्क फॉल्स भी देखने लायक हैं। आप चाहें तो कोटागिरी में ट्रेकिंग और क्लाइंबिंग का भी मजा ले सकते हैं।

येलागिरी

येलागिरी, जिसे एलागिरी के नाम से भी जाना जाता है, तमिलनाडु के वेल्लोर जिले में स्थित एक छोटा सा हिल स्टेशन है और इसे पर्यटकों का स्वर्ग भी कहा जाता है। इसका इतिहास प्रवासी समय का है जब सभी येलागिरी जमींदारों की निजी संपत्ति हुआ करते थे जिनके घर अभी भी रेड्डीयूर में मौजूद हैं। 1950 के दशक की शुरुआत में, येलागिरी को भारत सरकार ने अपने कब्जे में ले लिया था। यह स्थान समुद्र तल से 1048 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है और आदिवासी आबादी वाले लगभग 14 गांवों का समूह है। विभिन्न जनजातियों की आबादी वाला यह हिल स्टेशन तमिलनाडु के अन्य हिल स्टेशनों जैसे ऊटी या कोडाइकनाल की तरह विकसित नहीं है।

होगेनक्कल

होगेनक्कल वह जगह है जहां दक्षिण भारत की प्रसिद्ध नदी कावेरी झरने की विभिन्न धाराओं में विभाजित होती है। होगेनक्कल जलप्रपात इतना सुंदर है कि इसे भारत का नियाग्रा जलप्रपात भी कहा जाता है। यह जगह इतनी खूबसूरत है कि आपको किसी जन्नत से कम नहीं लगेगा। होगेनक्कल तमिलनाडु के धर्मपुरी जिले में कावेरी नदी के तट पर स्थित एक छोटा सा गाँव है।

RELATED ARTICLES

Most Popular