Friday, January 27, 2023
Homeधर्म विशेषMauni Amavasya 2023 में गंगा नदी में डुबकी लगाना माना जाता है...

Mauni Amavasya 2023 में गंगा नदी में डुबकी लगाना माना जाता है शुभ,जाने ऐसा क्यों

इस अमावस्या पर गंगा नदी में डुबकी लगाना माना जाता है शुभ,जाने ऐसा क्यों सनातन धर्म के इस महीने में पड़ने वाली मौनी अमावस्या जो 21 दिसंबर 2023 दिन शनिवार को पड़ रही है, धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस अमावस्या को गंगा नदी में स्नान करना अमृत स्नान माना जाता है!

Mauni Amavasya 2023 में गंगा नदी में डुबकी लगाना माना जाता है शुभ,जाने ऐसा क्यों

Read Also: प्रसिद्ध कथावाचक पंडित प्रदीप मिश्रा के नाम पर हुई लाखो की धोकाधड़ी का मामला सामने आया,जाने क्या है सच और क्या झूठ

इस अमावस्या ( Mauni Amavasya) पर स्नान, दान, तर्पण और पिंडदान करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है. इस दिन स्नान दान के साथ-साथ मौन धारण कर जप-तप भी किया जाता है. मौनी अमावस्या के दिन लोग सूर्योदय से पहले गंगा नदी (Mauni Amavasya Ganga Snan) में डुबकी लगाते हैं. कहा जाता है इससे अमृत- स्नान (Amrit Snan) के समान ही फल की प्राप्ति होती है. आइए जानते हैं मौनी अमावस्या के दिन गंगा स्नान का क्यों है इतना महत्व.

मौनी अमावस्या 2023 शुभ मुहूर्त और पूजा

माघ कृष्णपक्ष अमावस्या तिथि प्रारंभ – 21 जनवरी दिन शनिवार, सुबह 06:17 से

माघ कृष्णपक्ष अमावस्या तिथि समाप्त – 22 जनवरी, दिन रविवार सुबह 02:22 तक

उदयातिथि के अनुसार 21 जनवरी दिन शनिवार को मौनी अमावस्या मान्य होगी और इसी दिन स्नान, दान, तर्पण और पूजा-पाठ जैसे कार्य किए जाएंगे.

Mauni Amavasya 2023 में गंगा नदी में डुबकी लगाना माना जाता है शुभ,जाने ऐसा क्यों

इस अमावस्या को गंगा स्नान करने वालो को होती है समुन्द्र मंथन

सनातन धर्म में गंगा जी को बेहद पवित्र माना जाता है, मान्यता है कि अगर व्यक्ति एक बार गंगा नदी में स्नान कर ले तो उसके जीवनभर का पाप धुल जाता है. मान्यता है कि गंगा और अन्य नदियों के स्नान की पवित्रता का संबंध समुद्र मंथन से जुड़ा है. इस संदर्भ में एक पौराणिक कथा के प्रचलित है.

कथा के अनुसार भगवान् धन्वंतरि अमृत कलस लेकर निकले

जब देवों और असुरों ने मिलकर समुद्र मंथन किया तो समुद्र से भगवान धनवंतरि अमृत कलश लेकर निकले. उस अमृत कलश को पाने के लिए देवताओं और असुरों के बीच विवाद छिड़ गया. कलश से अृमत की कुछ बूंदे प्रयागराज, हरिद्वार, उज्जैन और नासिक जैसी पवित्र नदियों में गिर गई. ऐसे में अमृत गिरने की वजह से ये नदियां पवित्र हो गईं. इसलिए किसी भी पर्व-त्योहार, पूर्णिमा, अमावस्या और विशेष तिथियों में नदी स्नान खासतौर से गंगा स्नान की परंपरा है!

Disclaimer: Hoshangabad Media इस बात की कोई गारंटी नहीं लेता है,यह न्यूज़ सिर्फ आपकी जानकारी के लिए पोस्ट की गयी है!

RELATED ARTICLES

Most Popular