Kheti kisani 2024:मशरूम की खेती से किसानों को लखपति बना देंगी,जानें पुरी जानकारी

0
Kheti kisani 2024:मशरूम की खेती से किसानों को लखपति बना देंगी,

Kheti kisani 2024:मशरूम की खेती से किसानों को लखपति बना देंगी,

Kheti kisani 2024:मशरूम की खेती से किसानों को लखपति बना देंगी,जानें पुरी जानकारी पारंपरिक खेती को छोड़कर भारतीय किसान अब गैर-पारंपरिक खेती अपना रहे हैं और उसमें सफलता भी हासिल कर रहे हैं.देश के ज्यादातर किसान सब्जियों की खेती करना पसंद करते हैं क्योंकि कम लागत और समय में इससे ज्यादा मुनाफा कमाया जा सकता है.इसमें मशरूम की खेती भी शामिल है. मशरूम की खेती किसानों के लिए एक लाभदायक और फायदेमंद बिजनेस है.इसकी खेती में कम जमीन,पानी और समय की जरूरत होती है.दूसरी सब्जियों की तुलना में मशरूम की खेती में किसानों को कम खर्च आता है और अच्छी आमदनी भी हो सकती है.अगर किसान उन्नत किस्मों के मशरूम की खेती करते हैं तो अच्छी कमाई कर सकते हैं.

Kheti kisani 2024:मशरूम की खेती से किसानों को लखपति बना देंगी,जानें पुरी जानकारी

मशरूम की खेती से महिला की बदली किस्मत, देखते ही देखते बन गई लखपति | Mushroom  Farming Women Farmer Agriculture Success Story sangita kumari | TV9  Bharatvarsh

भारत में मशरूम की 5 प्रमुख किस्में

सफेद बटन मशरूम

सफेद बटन मशरूम की किस्म भारत में सबसे ज्यादा उगाई जाती है. यह बहुत स्वादिष्ट होती है और इसमें कई पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में भी मदद करते हैं.मशरूम की इस किस्म का इस्तेमाल सब्जी बनाने से लेकर पिज्जा और पास्ता बनाने तक कई तरह के व्यंजनों में किया जाता है. इस किस्म को कच्चा या पकाकर खाया जा सकता है.यह बाजार में सबसे ज्यादा बिकने वाली मशरूम की किस्म है.इसकी खेती के लिए 22 से 26 डिग्री सेल्सियस का तापमान उपयुक्त माना जाता है.

यह भी पढ़े पापा की परियों को बहुत ही पसंद आ रहा है OnePlus Ace 3 Pro smartphone,धांसू कैमरा और जबरदस्त बैटरी के साथ,देखे कीमत

ढींगरी मशरूम

भारत में, ढींगरी मशरूम को किसानों के बीच ऑयस्टर मशरूम के नाम से भी जाना जाता है.इस किस्म के मशरूम भूरे रंग के दिखाई देते हैं. इस किस्म के मशरूम सीप के समान दिखने के कारण इन्हें ऑयस्टर कहा जाता है.मशरूम की इस किस्म की खेती मुख्य रूप से महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, कर्नाटक, बंगाल और उड़ीसा में की जाती है. ऑयस्टर मशरूम की खेती के लिए 20 से 30 डिग्री सेल्सियस का तापमान उपयुक्त माना जाता है और यह 3 महीने में तैयार हो जाती है.

दूधिया मशरूम

दूधिया मशरूम जिसे भारत में गर्मियों वाला मशरूम के नाम से जाना जाता है. हालांकि दिखने में यह सफेद बटन मशरूम की किस्म के समान होती है,लेकिन यह दूसरी किस्मों के मुकाबले ज्यादा टिकाऊ होती है.दूधिया किस्म के मशरूम में भरपूर मात्रा में विटामिन डी पाया जाता है,जिस वजह से इसकी बाजार में हमेशा मांग रहती है. मशरूम की इस किस्म को केरल,तमिलनाडु,कर्नाटक और आंध्र प्रदेश में दूसरी फसलों के साथ उगाया जाता है.

यह भी पढ़े पापा की परियों को बहुत ही पसंद आ रहा है OnePlus Ace 3 Pro smartphone,धांसू कैमरा और जबरदस्त बैटरी के साथ,देखे कीमत

शीताके मशरूम

शीताके मशरूम की किस्म दुनिया में सबसे ज्यादा खाई जाने वाली मशरूम है और यह औषधीय गुणों से भरपूर होती है. मशरूम की इस किस्म की भारत में खेती की जाती है और विदेशों में निर्यात किया जाता है. शीताकेमशरूम विटामिन और प्रोटीन से भरपूर होती है और इसे हिमाचल और उत्तर पूर्व जैसे राज्यों में उगाया जाता है. यह मशरूम मधुमेह जैसी बीमारियों में बहुत फायदेमंद मानी जाती है.

क्रेमिनी मशरूम

Kheti kisani 2024:मशरूम की खेती से किसानों को लखपति बना देंगी,जानें पुरी जानकारी

Mushroom Farming for Unempolyed Youth and Farmers can do wonders know  process from Expert mpas | मशरूम की खेती करें किसान! साल भर मिलेगा फायदा,  विशेषज्ञों ने बताया- इन बातों का रखें

क्रेमिनी बटन मशरूम की ही एक किस्म है. स्वाद में लाजवाब होने के अलावा यह सेहत के लिए भी बहुत फायदेमंद मानी जाती है. मशरूम की इस किस्म में एक मोटी परत होती है और इसका रंग कopy (copy) जैसा होता है. अगर किसान मशरूम की इस किस्म की खेती करते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed